कोरोनावायरस:संक्रमण से बचने के लिए शिक्षक और बच्चों ने भी क्लास में मास्क लगाया

कोरोनावायरस:संक्रमण से बचने के लिए शिक्षक और बच्चों ने भी क्लास में मास्क लगाया


अंकलेश्वर / कोराना वायरस के कहर के चलते अंकलेश्वर एजुकेशनल ट्रस्ट द्वारा संचालित एसवीईएम इंग्लिश मीडियम स्कूल के संचालकों ने विद्यार्थियों को स्कूल में मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। अभिभावकों को भेजे गए सर्कुलर में कहा गया है कि बिना मास्क के बच्चों को स्कूल न भेजें।


शिक्षकों के लिए भी अनिवार्य
स्कूल का यह आदेश बच्चों के अलावा शिक्षकों के लिए भी है। साथ ही यह भी कहा गया है कि जिनके पास मास्क की व्यवस्था तुरंत नहीं हो पाती, उन्हें रूमाल का इस्तेमाल करना है। शाला की प्रिंसीपल मीनाक्षी बने भारद्वाज ने कोरोना वायरस के बारे में विस्तार से बच्चों को समझाया। उन्होंने बताया कि भीड़ वाले स्थानों पर यह वायरस तेजेी से फैलता है। इसलिए ऐसे स्थानों में जाने से बचें।


सर्दी-खांसी वाले बच्चों के लिए अलग से व्यवस्था
एसवीईएम इंग्लिश मीडियम स्कूल की प्रिंसिपल मीनाक्षी भारद्वाज ने बताया कि कोरोना वायरस सांस के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है। हम बच्चों को मास्क पहनने के लिए कह रहे हैं। जिन बच्चों को सर्दी-खांसी या बुखार है, उनके बैठने के लिए अलग से व्यवस्था की गई है। इसके अलावा हम हेंड वॉश, मास्क और हेंड शेक आदि के बारे में जानकारी दे रहे हैं।


हाथ नहीं मिलाते, नमस्ते करते हैं
स्टूडेंट शौर्य मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण अब हम आपस में हाथ नहीं मिलाते, इसके बदले नमस्ते कहकर अभिवादन करते हैं। मास्क के कारण हमें सांस लेने में कोई परेशानी नहीं होती।


पेनिक होने के बजाए सावधानी रखें
हेल्थ कंसल्टंट डॉ. विलास पटेल ने बताया कि कोरोना से पेनिक नहीं, सावधानी जरूरी है। सर्दी-खांसी, के लक्षण दिखें, तो उन्हें मास्क पहनाएं। उनसे 3 फीट का अंतर रखें।


कोरोना वाय्ररस के लक्षण



  • सिरदर्द

  • नाक से पानी निकलना

  • गला सूखा लगना

  • स्नायु में दर्द

  • अधिक बुखार आना

  • सांस लेने में तकलीफ

  • न्यूमोनिया

  • सेप्सिस


Popular posts
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
MP पुलिस के जांबाज अफसर ओर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट मोहिंदर कंवर परिणय सूत्र में बंधे
Image
प्रशासन ने सुबह 7 से शाम 7 बजे तक खोला बाजार, व्यापारी नहीं चाहते खोलना
विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के उपलक्ष में ऑनलाइन बैठक तम्बाकू जानलेवा, मैं भी कर रहा हूँ इसकी आदत छोड़ने क़ी कोशिश - डॉ. हेमंत जैन तम्बाकू मुक्त समाज की पहल में सहभागी बनें : रामजी राय दतिया। असमय मानव जीवन के खत्म होने में बहुत बड़ा योगदान तम्बाकू से बने पदार्थों के सेवन से है चाहे वह चबाने वाला हो, सूंघने वाला हो अथवा धूम्रपान हो। इन सबके सेवन से होने वाले दुष्प्रभाव से सेवन करने वाला स्वयं और अपने इर्दगिर्द रहने वाले स्वजनों को धीमी जहर से होने वाली मौत की ओर अग्रसर करता है। इसमें युवा भी अत्यधिक ग्रसित होता चला जारहा है। अतः आवश्यक है सामुदायिक जागरूकता की। उक्त उद्गार वरिष्ठ समाजसेवी वीरेन्द्र शर्मा ने व्यक्त किए। तम्बाकू जानलेवा, मैं भी कर रहा हूँ इसकी आदत छोड़ने क़ी कोशिश यह बात बैठक में स्रोत व्यक्ति के रूप में सम्मिलित मेडीकल कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉ. हेमंत जैन ने कही। इस उद्देश्य की प्रतिपूर्ति हेतु विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के उपलक्ष में स्वदेश ग्रामोत्थान समिति व मध्यप्रदेश वॉलेंट्री हेल्थ एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में संचालित अभियान के अंतर्गत ऑनलाइन वेविनार बैठक संस्था संचालक रामजीशरण राय के नेतृत्व में आयोजित की गई। उन्होंने तम्बाकू मुक्त समाज की पहल में सहभागी बनने की अपील की। साथ ही श्री राय ने तम्बाकू उत्पादों के सेवन करने वाले व उससे होने वाली मौतों के आंकड़े प्रस्तुत किए। कोरोना महामारी के चलते सरकार द्वारा प्रदत्त एडवाइजरी के परिपालन में सामाजिक दूरी बनाए रखने हेतु आयोजित ऑनलाइन जागरूकता बैठक में वरिष्ठ समाजसेवी सरदारसिंह गुर्जर, डॉ. बबीता विजपुरिया, दया मोर, अशोककुमार शाक्य, राजपालसिंह परमार, पीयूष राय, रुचि सोलंकी, बलवीर पाँचाल, दीक्षा लिटौरिया, श्वेता शर्मा, जितेंद्र सविता, प्राप्ति पाठक, अखिलेश गुप्ता, देवेंद्र बौद्ध, पिस्ता राय, अभय दाँगी, शिवम बघेल, भैरव दाँगी, प्रज्ञा राय, शैलेंद्र सविता, सुवेश भार्गव आदि ने सहभागिता करते हुए समुदाय को तम्बाकू मुक्त बनाने हेतु सतत जागरूकता के प्रयासों में अपनी भूमिका निभाने की सहमति जताई। हम विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर शपथ लेते हैं कि प्रत्येक मानव जीवन को सुरक्षितऔर संरक्षित रखने हेतु स्वयं तम्बाकू से बने पदार्थों का सेवन नहीं करेंगे साथ ही समुदाय को तम्बाकू से बने पदार्थों के सेवन न करने हेतु प्रेरित करेंगे। साथ ही शपथ लेते हैं कि हम अपने अपने स्तर पर जिले सार्वजनिक स्थानों को धूम्रपान मुक्त करने की पहल में शासन प्रशासन का आवश्यक सहयोग करते हुए कोटपा अधिनियम के कानूनी प्रावधानों की जागरूकता करेंगे। उक्त जानकारी बलवीर पाँचाल ने देते हुए सार्वजनिक स्थानों को धूम्रपान मुक्त करने की अपील की। अंत में बैठक सहभागी सभी का आभार सरदार सिंह गुर्जर ने किया।
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image