केंद्रीय मंत्री तोमर के क्षेत्र में सड़कें बदहाल

केंद्रीय मंत्री तोमर के क्षेत्र में सड़कें बदहाल



 






राजनीतिक हलचल / मोदी सरकार और उनकी कैबिनेट एक के बाद एक बड़े और कड़े फैसले ले रही है,देश की जनता खुश भी होती है तो विपक्ष हाहाकार मचाते दिखाई देते हैं । मोदी कैबिनेट के टॉप पाँच मंत्रियों में शामिल और मध्यप्रदेश की राजनीति के कद्दावर नेता नरेंद्र सिंह तोमर को ग्रामीण विकास का मसीहा कहा जाता है,प्रदेश में जब वो पंचायत ग्रामीण विकास मंत्री थे तब केंद्र की यूपीए सरकार ने उन्हें सम्मानित भी किया था, उनके अपने ये भी कहते नहीं थकते की मोदी वन में उनका कार्यकाल शानदार रहा, तोमर वर्तमान में एक बार फिर मोदी कैबिनेट में पंचायती राज ग्रामीण विकास के साथ साथ पेयजल विभाग का जिम्मा संभाले हुए है ।


तोमर के अपने संसदीय क्षेत्र मुरैना - श्योपुर में सड़कों की बदहाली अब किसी से देखी नहीं जाती है, ग्रामीण इलाकों की सड़कों का एक्सरे करने की आवश्यकता नहीं है बल्कि दो मुख्य मार्ग वर्षों से अपनी सेहत के सुधार की आशा में हैं । जनता की उम्मीदें तब और बढ़ जाती हैं जब  विकास का जिम्मा अपने ही प्रतिनिधि पर हो और वो गहरी नींद में सो रहा होता है तो पीड़ा बयाँ न की जाये तो बेहतर है । ऐसा नहीं कि केंद्रीय मंत्री तोमर इन सड़कों की बदहाली से बखिफ न हों । आपको बता दें कि श्योपुर जिले में धोविनि-विजयपुर-टेंटरा मार्ग इतना खराब है कि पता नहीं चलता कि सड़क में गड्ढे हैं या गड्ढों में सड़क, ऐसी ही किस्मत पर रोती दिखाई देती है मुरैना जिले की सहसराम - पहाड़गढ़ मार्ग, पूरा जंगल का क्षेत्र और सड़क का नामोनिशां न होना जनता के जेहन में दर्द के साथ भय का माहौल पैदा कर देता है । तोमर दो बार यहाँ से सांसद है लेकिन सड़क की सुध न तो कांग्रेस ले रही न तोमर ।

तोमर की कार हुई थी पंक्चर-

जब केंद्रीय मंत्री तोमर विजयपुर दौरे पर गए थे तब उनकी कर धोविनि - विजयपुर मार्ग पर पंक्चर हुई थी तो मंत्री ने आनन फानन में जिम्मेदार अफसरों को सड़क के पेंच वर्क के आदेश सुना दिये लेकिन जिम्मेदारों ने अपनी जिम्मेदारी कितनी निभाई ये तो सड़क की बदहाली ही बयाँ कर रही है ।




Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image