अचानकमार टाइगर रिजर्व के कोर क्षेत्र में चीतल का शिकार

अचानकमार टाइगर रिजर्व के कोर क्षेत्र में चीतल का शिकार


डेढ़ साल में आठ मौतें


बिलासपुर / छत्तीसगढ़ के बिलासपुर स्थित अचानकमार टाइगर रिजर्व (एटीआर) में अधिकारियों की लापरवाही से वन्य जीवों पर भारी पड़ रही है। पिछले डेढ़ साल के दौरान शिकारी एक ग्रामीण सहित सात वन्यजीवों की हत्या कर चुके हैं। रविवार को शिकारियों ने एक बार फिर चीतल का शिकार कर दिया। सूचना मिलने पर डिप्टी रेंजर मौके पर पहुंचे और चीतल का मांस लेकर जा रहे एक व्यक्ति को दौड़ाकर पकड़ लिया। हालांकि उसका साथी भागने में कामयाब हो गया। खास बात यह है कि घटना के दौरान रेंजर बिना किसी सूचना के गायब थे।


पूछताछ में बताया सोन कुत्तों ने मारा है चीतल को
जानकारी के मुताबिक, कोर क्षेत्र में छपरवा रेंज के कक्ष क्रमांक 233 कल्हरपानी में रविवार को एक चीतल का शिकार हुआ। शिकारी दोपहर में नर चीतल का मांस लेकर जा रहे इसी बीच डिप्टी रेंजर को सूचना मिली और वे मौके पर गए। उन्हें देख दोनों शिकारी भागने लगे। इस पर डिप्टी रेंजर ने उन्हें दौड़ाया और एक को पकड़ लिया। जबकि दूसरा फरार हो गया। उसकी तलाश जारी है। चीतल के शव का अंतिम संस्कार किया गया। घटना के समय रेंजर नायडू ड्यूटी से गायब थे। सूचना मिलने पर शाम को कोटा और कोर क्षेत्र के एसडीओ डीएन त्रिपाठी मौके पहुंचे।


कोटा एसडीओ डीएन त्रिपाठी को कोर क्षेत्र का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। उन्होंने बताया कि छपरवा निवासी राम शरण यादव को संदेह के आधार पर गिरफ्तार किया है। पूछताछ में उसने बताया कि जंगली जानवर सोनकुत्ते ने नर चीतल का शिकार किया और आधा खाकर उसे छोड़ दिया। इसी बीच वह अपने साथी सुरही निवासी संतोष कुमार यादव के साथ अपना मवेशी ढूंढने जंगल में निकले थे। तभी उनकी नजर मरे हुए चीतल पर पड़ गई। दोनों ने 10 किलो चीतल के मांस को उसके शव से निकाला और उसे कपड़े में बांध कर लेकर जा रहे थे।


वे कल्हनपानी के पास पहुंचे ही थे कि उन्हें डिप्टी रेंजर संत राम ने देखा और दौड़ाया। संतोष कुमार तो भाग गया लेकिन राम शरण को पकड़ लिया। उसके पास से मांस भी बरामद हुआ। एसडीओ ने बताया कि राम शरण को अभी रिमांड पर रखा है। इसके बाद इसे लोरमी कोर्ट में पेश किया जाएगा। फरार संतोष की तलाश जारी है। एटीआर में वन्य जीवों का शिकार कोई नई बात नहीं है। अधिकारियों की लापरवाही और अनदेखी लगातार सामने आती रही है। कभी वन्य जीवों के शिकार को लेकर तो कभी जंगल में लगी आग पर।


Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image