सबसे कम उम्र में सचिन का रिकॉर्ड तोड़ने वाली शेफाली

और कोच की सलाह पर ऑलराउंडर बनी ऋ चा महिला वर्ल्ड कप टीम में



नई दिल्ली / आईसीसी टी-20 महिला वर्ल्ड कप के लिए भारतीय महिला क्रिकेट टीम में हरियाणा की 15 साल की शेफाली वर्मा और बंगाल की 16 साल की ऋचा घोष भी खेलेंगी। शेफाली हाल में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अर्द्धशतक जड़कर भारत की सबसे युवा खिलाड़ी बनी हैं। उन्होंने सचिन तेंदुलकर का 30 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा।  ऋचा को महिला चैलेंजर ट्रॉफी में उनके अच्छे प्रदर्शन के बाद चुना गया। ऋचा ने 26 गेंद में 36 रन बनाए थे। पेश है टीम में शामिल दोनों नए चेहरों की कहानी...


कोच ने कहा- लंबाई का फायदा उठाओ,  बॉलिंग भी करो; बात मानी तो टीम में ऑलराउंडर हूं: ऋ चा


‘मैंने अपना कॅरिअर विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में शुरू किया था। लेकिन जब बंगाल से क्रिकेट खेलना शुरू किया तो कोच ने मेरी लंबाई (5 फीट 10 इंच) देखते हुए बॉलिंग करवाई। मैं बॉलिंग भी करने लगी और टीम में ऑलराउंडर के रूप में शामिल हुई। 12 साल की उम्र में मैं बंगाल की ओर से अंडर-17, अंडर-19 अौर सीनियर टीम में खेली। हालांकि, पहले साल बल्लेबाज के तौर पर ही शामिल की गई थी। लेकिन बाद में गेंदबाजी भी करने लगी। वर्ल्ड कप मेेरे कॅरिअर का पहला इंटरनेशनल मैच भी है। यह मेरे लिए गौरव की बात है। ये दिन मैं कभी भूल नहीं पाऊंगी। यही वजह है कि फरवरी में हाेने वाली दसवीं की बोर्ड परीक्षा में शामिल नहीं हो पाऊंगी। मेरा देश के लिए खेलने का मेरे पापा मानवेंद्र घोष का सपना आज पूरा हुआ।’


किट खरीदने के पैसे नहीं थे तो टूटे बल्ले से शेफाली ने 7 महीने तक प्रैक्टिस की थी


एक समय वह भी था, जब शेफाली टूटे बल्ले और फटे हुए दस्तानों से प्रैक्टिस किया करती थीं। करीब सात महीने तक ऐसे ही संघर्ष का दौर चला। चोटों का सामना भी करना पड़ा। शेफाली के पिता संजीव वर्मा ने बताया कि अप्रैल, 2016 में नौकरी दिलाने के नाम पर उनके साथ धोखाधड़ी हो गई थी और इस कारण घर की अार्थिक स्थिति खराब हो गई। इसके बाद भी करीब सात माह तक शेफाली ने प्रैक्टिस नहीं छोड़ी। इसके बाद शेफाली ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। शेफाली ने लाहली स्टेडियम में हुए रणजी मैच में सचिन को खेलते देखकर ही क्रिकेट को कॅरिअर बनाने की ठानी थी। आज मुझे बेटी के सिलेक्शन पर गर्व है।



Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image