प्राइवेट काॅलेजाें के डॉक्टर सरकारी मेडिकल कॉलेजाें में भी पढ़ाएंगे

, नियमों में बदलाव



पटियाला / फैकल्टी की कमी से जूझ रहे मेडिकल काॅलेजाें काे मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडियन (एमसीआई) ने बड़ी राहत दी है। स्टूडेंट्स की प्रभावित हाेती पढ़ाई काे ध्यान में रखते हुए एमसीआई ने अपने नियमाें बदलाव किया है। काउंसिल के मुताबिक प्राइवेट काॅलेजाें के डॉक्टर सरकारी मेडिकल कॉलेजाें में भी पढ़ाएंगे। साथ इन्हें जिला अस्पतालों को अपग्रेड कर बनाए जाने वाले मेडिकल कॉलेजों में भी पढ़ाने की परमिशन होगी।


एमसीआई के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स (एमसीआइबीओजी) ने विजिटिंग फैकल्टी के नियमों में भी बदलाव किया है। इसके तहत अब 70 साल की उम्र तक के प्राइवेट काॅलेजाें मेडिकल कॉलेजों में पार्ट टाइम सेवाएं दे सकेंगे। प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर विजिटिंग फैकल्टी के तौर पर कॉलेज में पढ़ा पाएंगे। पहले निजी डॉक्टरों के पढ़ाने की अनुमति नहीं थी।


न्यूनतम आठ साल की प्रैक्टिस वाले डॉक्टरों को ही पार्ट टाइम मिलेगा काम
न्यूनतम 8 साल की प्रैक्टिस और पाेस्टग्रेजुएट की डिग्री वाले विदेशी और प्राइवेट प्रैक्टिस वाले डॉक्टरों को पार्ट टाइम वेस पर काम दिया जा सकता है। लेकिन उम्र 70 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए। संबंधित कॉलेज में 50 फीसद से अधिक विजिटिंग फैकल्टी नहीं होनी चाहिए। विजिटिंग फैकल्टी का सिलेक्शन प्रिंसिपल/डायरेक्टर की अध्यक्षता वाली चार सदस्यीय कमेटी करेगी। 


संशोधन से शिक्षा की गुणवत्ता में आएगा सुधार


एमसीआई के इस संशोधन से मेडिकल कॉलेजों में शिक्षा की गुणवत्ता सुधरेगी। देश-विदेश के विषय विशेषज्ञ अपने अनुभव एवं ज्ञान से छात्र-छात्राओं के साथ बांट सकेंगे। पूरा ड्राफ्ट आने के बाद ही इस पर विस्तार से कुछ कहा जा सकता है।


जीसी अहीर, रजिस्ट्रार, बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज 


सभी सरकारी व प्राइवेट कॉलेजों को लाभ मिलेगा

एमसीआई के कदम का पंजाब सरकार स्वागत करती है। एमसीआई के सारे नियम कायदे परखने के बाद प्राइवेट कॉलेजों के माहिर डॉक्टरों को हायर करेंगे। एमसीआई के फैसले से सरकारी नहीं बल्कि प्राइवेट कॉलेजों को भी लाभ मिलेगा।
ओपी सोनी, हेल्थ मिनिस्टर मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च


Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image