प्रदर्शन के कारण सिर्फ आधा किमी रास्ता बंद

, पर रोजाना 4 लाख लोग परेशान



नई दिल्ली /  नागरिकता संशोधन कानून और  एनआरसी के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में स्थानीय लोगों के विरोध-प्रदर्शन को सोमवार को एक महीना पूरा हो गया। इसमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। इसका नेतृत्व कोई बड़ा नेता नहीं कर रहा है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे सभी नेता हैं और सीएए के खिलाफ एकजुट हैं। पिछले महीने की 15 तारीख को यहां प्रदर्शन शुरू हुए थे। इसका असर केवल स्थानीय नहीं,  दिल्ली और आसपास के लोगों पर भी पड़ रहा है।


 शाहीन बाग-कालिंदी कुंज रोड बंद है। रोका गया रास्ता सिर्फ आधा किमी का है, लेकिन यह जगह आवागमन के लिहाज से अहम है। यह रास्ता नोएडा के जरिए फरीदाबाद को दक्षिण दिल्ली से जोड़ता है। करीब चार लाख लोग रोजाना इस रास्ते का इस्तेमाल करते हैं। जाम के कारण 10 मिनट की दूरी तय करने में डेढ़ घंटे लग रहे हैं। बदरपुर, फरीदाबाद के लोग नोएडा जाने के लिए आश्रम-डीएनडी का रास्ता पकड़ने को मजबूर हैं। इधर, व्यापारियों का कहना है कि शाहीन बाग में करीब 100 बड़े शोरूम- दुकानें हैं। प्रदर्शन के कारण ये भी चार हफ्ते से बंद हैं।


इससे इस बाजार को रोजाना करीब 2 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है। लगातार बंद के कारण शोरूम-दुकान कर्मचारियों को भी नौकरी जाने का डर सता रहा है। मजदूर काम छोड़कर गांव लौटने लगे हैं। सरिता विहार के लोग रास्ता खुलवाने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर कालिंदी कुंज रोड नहीं खुला तो वे मथुरा रोड बंद कर देंगे।


हाईकोर्ट: रोड खुलवाने के लिए याचिका पर आज होगी सुनवाई


शाहीन बाग-कालिंदी कुंज रोड खुलवाने के लिए दायर याचिका पर सुनवाई के लिए दिल्ली हाईकोर्ट सोमवार को राजी हो गया। कोर्ट ने कहा कि वह इस मामले में मंगलवार को सुनवाई करेगा।  याचिका हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच के सामने आई थी।  एडवोकेट और सामाजिक कार्यकर्ता अमित साहनी ने यह याचिका दायर की है।


जेएनयू: छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष से हिंसा मामले में पूछताछ हुई


दिल्ली पुलिस ने सोमवार को जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष, पंकज और वास्कर विजय से 5 जनवरी को कैंपस में हुई हिंसा के मामले में पूछताछ की। बयान दर्ज किए गए हैं। वहीं, एबीवीपी की राष्ट्रीय महासचिव निधि त्रिपाठी ने कहा- यह कहना गलत है कि जेएनयू में छात्रों का प्रदर्शन केवल फीस वृद्धि को लेकर किया गया छात्र आंदोलन था। दरअसल, यह जेएनयू पर नक्सली हमला था। इसकी भूमिका पिछले साल 20 अक्टूबर को ही लिखी जा चुकी थी, जो 5 जनवरी की हिंसा के रूप में सामने आई।  उन्होंने कहा- जेएनयू हिंसा को लेकर हर तरफ चर्चा हो रही है मगर इसे केवल 5 जनवरी के हिंसक घटनाक्रम तक ही सीमित कर दिया गया। जबकि यह केवल उतना ही नहीं है।



Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image