PFI की कांग्रेस को फंडिंग पर शिवराज सिंह ने सोनिया गांधी पर साधा निशाना

PFI की कांग्रेस को फंडिंग पर शिवराज सिंह ने सोनिया गांधी पर साधा निशाना





भोपाल / नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में हिंसा फैलाने में शामिल पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) द्वारा कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को पैसे देने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. इन सबके बीच मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा है।


शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि मैडम सोनिया गांधी देश की जनता को जवाब दें, क्या आपको मालूम था कि आपकी पार्टी के नेता दंगे भड़काने के लिए पैसों का लेन-देन कर रहे हैं. क्या आपने गुंडे-बदमाशों के भरण-पोषण की ज़िम्मेदारी ले ली है. क्या देश की शांति भंग करने का ठेका आपने ले लिया है।







उन्होंने दूसरा ट्वीट करते हुए लिखा कि राहुल गांधी, कृपया जवाब तैयार करवाएं. आपको देश को बताना होगा कि घर-दुकानों में तोड़फोड़ करने वाले, बसों-कारों को आज़ादी के नाम पर फूंकने वाले आपके ‘शांतिपूर्ण’ प्रदर्शनकारियों को आपकी पार्टी के नेता पैसे पहुंचा रहे थे, इसकी जानकारी आपको थी।






शिवराज सिंह चौहान ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि खुद को क्रांतिकारियों की पार्टी कहने वाली कांग्रेस के नेता देश को जलाने वालों की मदद कर रहे हैं, इससे ज़्यादा दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मनाक और कुछ नहीं हो सकता. क्या CAA विरोधी हिंसक प्रदर्शन करने में कांग्रेस का हाथ है. क्या कांग्रेसी नेता देश में हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं।


दरअसल, नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में देश के कई शहरों में हिंसा फैलाने में शामिल पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से जुड़ा बड़ा खुलासा हुआ है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि पीएफआई के बैंक अकाउंट से देश के कई बड़े वकीलों को पैसे दिए गए. इनमें वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और इंदिरा जयसिंह का नाम भी शामिल है. जांच के दौरान पीएफआई के कुल 73 बैंक खातों का पता चला है. जिनमें पीएफआई के 27 और उससे संबंधित इकाई रिहैब इंडिया फाउंडेशन (RIF) 9 और पीएफआई की 17 अलग अलग इकाइयों-व्यक्तियों से संबंधित 37 खातों में 2 से 3 दिन के अंदर अंदर 120 करोड़ रुपये जमा किए गए है।


ऐसा भी खुलासा हुआ है कि इन रुपयों को दो से तीन दिनों के भीतर मामूली रकम खातों में छोड़कर निकाल लिया गया है. ऐसा पता चला है कि पीएफआई से कई बड़े वकीलों को पैसे भेजे गए है और इन वकीलों में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल का नाम भी शामिल हैं.
इस खुलासे के मुताबिक पीएफआई की तरफ से कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को 77 लाख रुपये, वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह को 4 लाख, दुष्यंत दवे को11 लाख और अब्दुल समर (एनआईए की चार्जशीट में नाम) 3 लाख रुपये दिए गए थे।


आरोपों पर क्या बोले सिब्बल और दवे


इन आरोपों को कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने सिरे से खारिज करते हुए इन्हें बकवास करार दिया. वहीं, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष वकील दुष्यंत दवे ने कहा कि वकीलों को जो फीस जाती है वह आधिकारिक तौर पर दी जाती है. मैंने कभी भी PFI के लिए केस नहीं लड़ा है. हालांकि मुझे फिलहाल यह याद नहीं आ रहा है कि किसी मामले में अन्य पार्टी की तरफ इन्होंने मुझे भुगतान किया या नहीं. दवे ने कहा कि अगर इन्होंने मुझे कोई भुगतान भी किया है, अगर किया है तो मुझे नहीं लगता कि पहले यह कोई बैन संस्था थी।


दवे ने कहा कि यह सब मेरे लिए मायने नहीं रखता है, मैं अल्पसंख्यकों के हक के लिए अदालत में लड़ता रहूंगा. वहीं, इंदिरा जयसिंह और अब्दुल समर की तरफ से इन आरोपों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. ऐसा बताया जा रहा है कि यूपी के बहराइच, बिजनौर, हापुड़, शामली, डासना से ये पैसे इकट्ठा किए गए थे।




Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image