पायलट को राय देने से पहले सोचना चाहिए कि चुनाव में तीन महीने लगते हैं



जयपुर / डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने 14 जनवरी को राज्य निर्वाचन आयोग पीएस मेहरा को पत्र लिखकर कहा था कि जिला परिषद और पंचायत समितियों के चुनाव 7 फरवरी तक करा दें। भास्कर से खास बातचीत में मेहरा ने इस पर खुलकर जवाब दिया।


सवाल: डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने आपकाे पत्र लिखकर 7 फरवरी से पहले जिला परिषद और पंचायत समितियाें के चुनाव कराने को कहा है? 
जवाब:
 पंचायत पुनर्गठन, लाॅटरी सहित कई मुद्दाें पर डिप्टी सीएम सचिन पायलट के विभाग ने पहले ताे एडवाेकेट जनरल की राय ली। उस राय में स्पष्ट है कि बगैर सुप्रीम काेर्ट की अनुमति के कुछ न करें। फिर पायलट ने हमें पत्र लिखा-चुनाव कराएं। ऐसे में हमारा कहना है कि काश चिट्टी में ये भी कहते कि हम एडवाेकेट जनरल की राय नहीं मान रहे।


सवाल: क्या चुनाव आयाेग डिप्टी सीएम की राय मानने के लिए तैयार नहीं है? 
जवाब:
 उनका राय देना कितना उचित है। हमें चुनाव कराने के लिए एक प्राेसेस से गुजरना पड़ता है। ये प्राेसेस 3 माह से कम नहीं हाेता। सरकार से पहले ही कहा था कि समय से चुनाव न हुए तो संवैधानिक संकट खड़ा हो सकता है। वाे कुछ भी कहें और करें, लेकिन चुनाव कराना है या नहीं, ये हमारे पार्ट में है। इतना जल्द चुनाव कराना संभव नहीं है।


सवाल: आराेप है कि आप एक खेमा विशेष के इशारे पर काम कर रहे हैं?
जवाब: ये सब बकवास बातें हैं। मैं राज्य निर्वाचन आयुक्त बनने के बाद कभी किसी राजनीतिक दल के नेता से नहीं मिला। कभी बात तक नहीं हुई है। राज्य निर्वाचन आयाेग बगैर किसी के दबाव में काम कर रहा है। हमारे अगले निर्णय इसे साबित करेंगे। 


सवाल: आपकाे चुनाव कराने में तीन महीने लग जाएंगे ताे सरकार काे प्रशासक लगाने पड़ेंगे?
जवाब:
 इसके लिए राज्य निर्वाचन आयाेग काे एक प्रतिशत भी जिम्मेवार नहीं ठहराया जा सकता। हमने ताे बहुत काेशिश की थी कि चुनाव समय पर हाे। नई पंचायताें के गठन और पुनर्गठन के बावजूद हम समय पर चुनाव कराने जा रहे थे, लेकिन चुनाव काेर्ट के स्टे से प्रभावित हाे गया। इसके लिए सरकार जिम्मेवार है। 


सवाल: सुप्रीम काेर्ट के स्टे देने के बाद आपने 24 घंटे में ही चाैथे चरण का चुनाव स्थगित क्याें कर दिया? इतनी जल्दी क्या थी कि ग्राम पंचायताें की संख्या भी घटा दी? 
जवाब:
 हमारे पास भी लीगल की टीम है। उनकी राय लेकर हमने रातभर काम कराया। चुनाव स्थगित हाेने का निर्णय किया। हमें पता है कि हमारी वर्किंग का कानूनी रूप से क्या असर पड़ता है। उसी के आधार पर निर्णय लिए गए है। वैसे भी एडवाेकेज जनरल अपनी राय दे चुके है। ऐसे में पंचायत समिति, जिला परिषद और शेष बचे करीब 4 हजार पंचायताें में चुनाव नहीं करा सकते हैं।



Popular posts
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
MP पुलिस के जांबाज अफसर ओर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट मोहिंदर कंवर परिणय सूत्र में बंधे
Image
प्रशासन ने सुबह 7 से शाम 7 बजे तक खोला बाजार, व्यापारी नहीं चाहते खोलना
विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के उपलक्ष में ऑनलाइन बैठक तम्बाकू जानलेवा, मैं भी कर रहा हूँ इसकी आदत छोड़ने क़ी कोशिश - डॉ. हेमंत जैन तम्बाकू मुक्त समाज की पहल में सहभागी बनें : रामजी राय दतिया। असमय मानव जीवन के खत्म होने में बहुत बड़ा योगदान तम्बाकू से बने पदार्थों के सेवन से है चाहे वह चबाने वाला हो, सूंघने वाला हो अथवा धूम्रपान हो। इन सबके सेवन से होने वाले दुष्प्रभाव से सेवन करने वाला स्वयं और अपने इर्दगिर्द रहने वाले स्वजनों को धीमी जहर से होने वाली मौत की ओर अग्रसर करता है। इसमें युवा भी अत्यधिक ग्रसित होता चला जारहा है। अतः आवश्यक है सामुदायिक जागरूकता की। उक्त उद्गार वरिष्ठ समाजसेवी वीरेन्द्र शर्मा ने व्यक्त किए। तम्बाकू जानलेवा, मैं भी कर रहा हूँ इसकी आदत छोड़ने क़ी कोशिश यह बात बैठक में स्रोत व्यक्ति के रूप में सम्मिलित मेडीकल कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉ. हेमंत जैन ने कही। इस उद्देश्य की प्रतिपूर्ति हेतु विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के उपलक्ष में स्वदेश ग्रामोत्थान समिति व मध्यप्रदेश वॉलेंट्री हेल्थ एसोसिएशन के संयुक्त तत्वावधान में संचालित अभियान के अंतर्गत ऑनलाइन वेविनार बैठक संस्था संचालक रामजीशरण राय के नेतृत्व में आयोजित की गई। उन्होंने तम्बाकू मुक्त समाज की पहल में सहभागी बनने की अपील की। साथ ही श्री राय ने तम्बाकू उत्पादों के सेवन करने वाले व उससे होने वाली मौतों के आंकड़े प्रस्तुत किए। कोरोना महामारी के चलते सरकार द्वारा प्रदत्त एडवाइजरी के परिपालन में सामाजिक दूरी बनाए रखने हेतु आयोजित ऑनलाइन जागरूकता बैठक में वरिष्ठ समाजसेवी सरदारसिंह गुर्जर, डॉ. बबीता विजपुरिया, दया मोर, अशोककुमार शाक्य, राजपालसिंह परमार, पीयूष राय, रुचि सोलंकी, बलवीर पाँचाल, दीक्षा लिटौरिया, श्वेता शर्मा, जितेंद्र सविता, प्राप्ति पाठक, अखिलेश गुप्ता, देवेंद्र बौद्ध, पिस्ता राय, अभय दाँगी, शिवम बघेल, भैरव दाँगी, प्रज्ञा राय, शैलेंद्र सविता, सुवेश भार्गव आदि ने सहभागिता करते हुए समुदाय को तम्बाकू मुक्त बनाने हेतु सतत जागरूकता के प्रयासों में अपनी भूमिका निभाने की सहमति जताई। हम विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर शपथ लेते हैं कि प्रत्येक मानव जीवन को सुरक्षितऔर संरक्षित रखने हेतु स्वयं तम्बाकू से बने पदार्थों का सेवन नहीं करेंगे साथ ही समुदाय को तम्बाकू से बने पदार्थों के सेवन न करने हेतु प्रेरित करेंगे। साथ ही शपथ लेते हैं कि हम अपने अपने स्तर पर जिले सार्वजनिक स्थानों को धूम्रपान मुक्त करने की पहल में शासन प्रशासन का आवश्यक सहयोग करते हुए कोटपा अधिनियम के कानूनी प्रावधानों की जागरूकता करेंगे। उक्त जानकारी बलवीर पाँचाल ने देते हुए सार्वजनिक स्थानों को धूम्रपान मुक्त करने की अपील की। अंत में बैठक सहभागी सभी का आभार सरदार सिंह गुर्जर ने किया।
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image