नशा व धुंआ मुक्त भुलाय गांव बना अब आदर्श

नशा व धुंआ मुक्त भुलाय गांव बना अब आदर्श


भोपाल / प्रदेश का एक गांव इन दिनों चर्चा में बना हुआ है। इसकी वजह है वहां के लोगों द्वारा स्वप्रेरणा से इस गांव का सामाजिक कुरुतियों से लेकर अन्य तरह की बुराईयों को समाप्त करना। शायद यह प्रदेश का ऐसा पहला गांव हैं, जहां न तो काई शराब पीता है और न ही कोई धुआं उड़ाता है। यही नहीं इस गांव के अधिकांश घरों में गोबर गैस का उपयोग किया जाता है। ग्रामीण इलाका होने के बाद भी यहां कोई छुआछूूत तो जानता तक नहीं है। यहां कोई व्यक्तिगत या फिर सार्वजनिक कार्यक्रम हो सभी की पूरी भागीदारी रहती है। यह हकीकत है राघौगढ़ की ढाई हजार की आबादी वाली ग्राम पंचायत भुलाय की है। खास बात यह है कि इस गांव की सभी बेटियां स्कूल जाती है। यह बदलाव आया है सिर्फ दो साल में। इसके पहले पशु-बलि बंद है। भुलाय के लोगों ने स्वप्रेरणा से गांव की तस्वीर बदल दी है। दो साल पहले जो लोग नशे में डूबे रहते थे, वे अब शराब को छूते तक नहीं हैं। इससे व्यक्तिगत रूप से लोगों के जीवन में अमलचूल परिवर्तन आया है। खास बात यह है कि इसमें सरकार से किसी तरह की कोई मदद न तो ली गई है और न ही मिली है।



इस तरह हुई बदलाव की शुरुआत
गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि शराब पीने से परिवारों में झगड़ेे होना आम बता थी। जिसके चलते आए दिन थाने-कचहरी में शिकायतें होती रहती थीं। इससे परेशान होकर गांव के लोगों ने पंचायत बुलाकर गांव को नशा मुक्त बनाने के साथ आदर्श बनाने का फैसला किया गया। इसके लिए गांव के ही लोगों की एक टीम बनाई गई जिसका नेतृत्व किसान भगत ङ्क्षसह को दिया गया था। इसके बाद एक-एक ग्रामीण से संपर्क कर उन्हें सामूहिक रूप से समझाइश देने का काम शुरु किया गया। इस दौरान उन्हें नशा छोडऩे के नुकसान और फायदे बताए गए, जिसके परिणामस्वरुप अब गांव आदर्श बन चुका है।
शिक्षा : भगत सिंह के अनुसार गांव के लोगों को बेटियों को पढ़ाने के लिए पे्रेरित किया। आज उत्साह से बेटियां पढ़ रही है। उच्च शिक्षा के लिए दूसरे शहर जा रही है।
खेती: लटूर सिंह, मन्नूलाल, मंगल सिंह ने बताया कि जैविक खेती को बढ़ावा दिया। गौपालन को बढ़ाया। लोग छुआछूत मानते थे। आज लोग आपस में बैठते हैं।
सफाई : गांव के रामप्रसाद और महेश ने बताया कि रोजाना लोग सुबह घरों के सामने स्वयं झाडू लगाते हैं। महिलाएं कचरे को भी निर्धारित जगह पर ही फेंकती है।



Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image