छतरपुर में वृद्धाश्रम में मां की मौत

छतरपुर में वृद्धाश्रम में मां की मौत


पत्नी के डर से शव को घर नहीं ले गया बेटा





छतरपुर / पत्नी से मां की अनबन थी तो बड़ा बेटा वृद्धाश्रम में रह रही मां के शव को घर भी नहीं ले गया। छोटा बेटा तो आश्रम भी नहीं पहुंचा। आखिर समिति के सदस्यों ने ही बेटों का फर्ज निभाकर मुखाग्नि दी। इस दौरान बड़ा बेटा मुक्तिधाम में खड़ा होकर सारा कर्मकांड देखता रहा। मां के प्रति बेटे के शर्मनाक व्यवहार वाली घटना छतरपुर के दर्शान वृद्ध सेवा आश्रम से जुड़ी है जहां दो साल पहले जनसुनवाई में पीड़ा सुनने के बाद तत्कालीन कलेक्टर ने दो बेटों की मां फूलवती को भेजा था।


शहर के जिला अस्पताल में संचालित दर्शना वृद्धा सेवा आश्रम में रहने वाली 75 वर्षीय फूलवती चौरसिया पिछले दो माह से बीमार थीं। अस्पताल में उनका उपचार कराया जा रहा था। सोमवार सुबह उनका निधन हो गया तो आश्रम के सदस्यों ने उनके बेटे रामखिलावन और लाला चौरसिया को सूचना दी।


आश्रम के सदस्यों के अनुसार पहले तो बड़े बेटे रामखिलावन ने ना नुकर की, बाद में वह आश्रम पहुंचा। यहां आश्रम के सदस्यों ने मां के शव को घर ले जाने के लिए कहा तो उसने इंकार कर दिया। उसका कहना था कि उसकी पत्नी और मां के बीच अनबन थी, इसलिए उसे घर नहीं ले जाना चाहता। पत्नी ने कहा था कि मां को घर लाए तो आत्महत्या कर लूंगी।


छोटा बेटा लाला चौरसिया वहां पहुंचा ही नहीं था। ऐसी स्थिति में आश्रम के सदस्यों ने ही उनके अंतिम संस्कार की तैयारी की और मुक्तिधाम ले जाकर विधिविधान से अंतिम संस्कार कराया। आश्रम के परिचारक हेमंत बबेले ने मुखाग्नि से पहले सारा कर्मकांड किया वहीं अन्य सदस्यों के साथ मिल मुखाग्नि दी। इस दौरान रामखिलावन ने केवल मुखाग्नि के डंडे से पीछे की और हाथ लगाया।


घरेलू कलह से दो साल पहले आई थीं आश्रम


आश्रम के प्रबंधक दिनेश वैद्य ने बताया कि फूलवती लगभग दो साल पहले तत्कालीन कलेक्टर रमेश भंडारी के जनसुनवाई कार्यक्रम में पहुंची थी और अपने दो बेटों के होते हुए भी घर में न रह पाने से परेशान थीं। कलेक्टर ने उन्हें वृद्धाश्रम में भर्ती कराया था। वह सांस की बीमारी से ग्रसित थीं। दो माह पहले उनकी ज्यादा तबियत बिगड़ी तो जिला अस्पताल में उनका उपचार कराया जा रहा था।


बेटा बोला, घर नहीं ले गए मगर सारे कर्म करेंगे


बेयर हाउस कार्पोरेशन में नौकरी कर रहे वृद्धा फूलवती के करीब 55 वर्षीय बेटे रामखिलावन चौरसिया का कहना है कि घरेलू कलह के चलते वह अपनी मां के शव को घर नहीं ले जा रहे लेकिन वह उनकी मृत्यु के सारे संस्कार करेगा। उसने बताया कि शाम को वह मुक्तिधाम में दीपक रखने भी गया था।


वहीं आश्रम के प्रबंधक दिनेश वैद्य कहते हैं कि आश्रम में किसी भी वृद्ध की मृत्यु होने पर वह सारे क्रियाकर्म कराते हैं। पंडित की मौजूदगी में फूल विसर्जित कराकर त्रयोदशी भी कराएंगे।




Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image