आयकर विभाग की रेड पर भी कार्रवाई नहीं

सोसायटियों में बड़े लोगों का काला धन लगा था; , सहकारिता विभाग आंखें मूंदे रहा



जयपुर / राजस्थान में 16 हजार करोड़ का फाइनेंशियल फ्रॉड हो जाए तो सवाल उठना लाजिमी है कि क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियां लोगों को ठग रही थीं, तब सरकारी मशीनरी क्या कर रही थी? इन सोसायटियों की मॉनिटरिंग करने वाले सहकारिता विभाग ने क्यों कुछ नहीं किया? आम आदमी की 1 लाख से ऊपर की ट्रांजैक्शन पर नजर रखने वाले आयकर विभाग को 2-2 करोड़ के ट्रांजैक्शन क्यों नहीं दिखे?


सवालों के जवाब स्पष्ट हैं। सरकारी विभागों की मिलीभगत के बिना ऐसा घोटाला होना संभव ही नहीं था। एसओजी की चार्जशीट में इन विभागों के अधिकारियों का जिक्र तो नहीं है, मगर संकेत जरूर हैं कि इन सोसायटियों में कई रसूखदारों का काला धन लगा था। यही नहीं, सरकारी विभागों में भी इन सोसायटियों ने पैठ बनाई हुई थी। जब फर्जीवाड़ा खुलने लगता तो रसूखदार पोल खुलने के डर से खामोश रहते और गरीबों की आवाज दबाने की कोशिश करते।


4 सवाल, जो बताते हैं कि कैसे सरकारी मशीनरी की मिलीभगत से हुआ राजस्थान का सबसे बड़ा फर्जीवाड़ा


1. केंद्र या राज्य, किसी भी ऑडिट में क्यों नहीं पकड़े गए घपलेबाज
हर क्रेडिट सोसायटी का ऑडिट होता है। प्रदेश का को-ऑपरेटिव डिपार्टमेंट व केंद्र सरकार का को-ऑपरेटिव रजिस्ट्रार ऑडिट करता है। लेकिन ये घपलेबाज जिस तरह से हर ऑडिट में बच निकले उससे यही स्पष्ट होता है कि इन तीन क्रेडिट सोसायटी के मामले में को-ऑपरेटिव विभाग मेहरबान रहा। सोसायटी संचालकों की मोटी तनख्वाह या फर्जी बिलों से कैश विदड्रॉल कुछ भी विभाग की नजर में नहीं आया।


2. दो राज्यों में एनओसी, कारोबार 28 राज्यों में कैसे फैला लिया
आदर्श क्रेडिट सोसायटी ने राजस्थान के बाद गुजरात में लाइसेंस मांगा था, मगर वहां की सरकार ने मना कर दिया। मध्य प्रदेश में कारोबार की अनुमति केंद्रीय को-ऑपरेटिव रजिस्ट्रार से मिल गई। जांच में सामने आया कि कंपनी का काम 28 राज्यों में फैला हुआ था। 2 राज्यों की परमिशन के बावजूद इतने राज्यों में कंपनी ने कारोबार कैसे फैलाया और केंद्रीय को-ऑपरेटिव रजिस्ट्रार को ये नजर क्यों नहीं आया।


3. 2010 में इनकम टैक्स रेड भी पड़ी, कार्रवाई क्यों नहीं हुई
2010 में इनकम टैक्स विभाग ने आदर्श क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी के यहां रेड की थी। केंद्रीय को-ऑपरेटिव रजिस्ट्रार और राजस्थान के को-ऑपरेटिव रजिस्ट्रार को शिकायत की गई लेकिन जिम्मेदार आंखें मूंदे रहे। नौ साल तक आम लोग ठगे जाते रहे और को-ऑपरेटिव सोसायटियां अपनी जेबें भरती रहीं। सरकारी विभागों ने कुछ भी नहीं किया। अगर 2010 में ही कार्रवाई हो जाती तो घोटाला उसी समय रुक जाता।


4. धारा 80-पी की छूट का भी नाजायज फायदा कैसे उठाया
इनकम टैक्स एक्ट की धारा 80 पी में क्रेडिट सोसायटियों को छूट मिली हुई है कि प्रॉफिट पर टैक्स नहीं लगता। इसी का फायदा उठाकर इन कंपनियों ने अपने वार्षिक लेखे-जोखे में घालमेल किया। ये कंपनियां इन्वेस्टरों को फर्जी प्रॉफिट दिखाती थी। गरीबों को यह कह कर लुभाया जाता कि सोसायटी लाभ कमा रही है। इस धारा का इस्तेमाल इन सोसायटियों ने गरीबों को झूठे सपने दिखाकर लूटने में किया।



Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image