पतलई के चार और युवाओं का सेना में चयन, 80 घराें का गांव अब तक दे चुका है 25 सैनिक

हाेशंगाबाद / डाेलरिया के पास गांव पतलई कला देशसेवा के रंग में रंगा है। यहां के चार और युवाओं का चयन सेना में हो गया तो विदाई से पहले रविवार को पूरे गांव का भंडारा प्रसादी रामजानकी मंदिर परिसर में हुई। तिरंगे के रंगों केसरिया, सफेद और हरे से होली खेली गई। राजपूत समाज बहुल गांव के 80 घराें ने अब तक 25 सैनिक देश काे दिए। 1971 में गांव से सेना में गए दूसरे सैनिक देवीसिंह सहित अन्य सैनिकाें के मुंह से वीरता की बातें हर युवा के फौज में जाने की प्रेरणा है। अभी गांव के आदर्शसिंह, विशालसिंह, हिमांशुसिंह, शुभम सिंह राजपूत सेना के लिए सिलेक्ट हुए हैं। पहली बार एकसाथ गांव के चार बेटाें के चयन पर पूरे गांव खुश है। चाराें के ट्रेनिंग पर जाना है।


त्योहार सा आनंद, पूरे गांव में खुशियां
चार युवाओं का एकसाथ चयन हाेने पर गांव में त्याेहार सा माहाैल है। रविवार काे गांव की सड़काें काे गाेबर से लीपा गया। फूलों से सजाया। आदर्श 14 मार्च काे बरेली (यूपी), शुभम 13 मार्च काे अहमदनगर महाराष्ट्र, हिमांशु 17 मार्च काे नासिक और विशाल 12 मार्च काे भाेपाल ट्रेनिंग के लिए जाएंगे।


ये अभी भी फौज में दे रहे सेवा: रोहित सिंह राजपूत (24), सुनील सिंह (28), हनुमान सिंह (29), अनिल सिंह (28), सतवानसिंह, अजीतसिंह, रामसिंह (37), नरेंद्र सिंह राजपूत (30), छत्रपाल सिंह (26), दीपक चौहान (27), विपिन सिंह (27), हरप्रताप सिंह (60), यशवंत सिंह (28)। इसके साथ ही देवीसिंह राजपूत (72), रमेशचंद राजपूत (68), कमलसिंह राजपूत (55), लल्लू सिंह राजपूत (52), मदन सिंह राजपूत (49), काैशल सिंह राजपूत (35), बलवंत सिंह राजपूत (36) रिटायर हो चुके हैं। वहीं स्व. सौरभ सिंह राजपूत (शहीद) हुए थे।


बच्चाें काे प्रेरित करने में भूमिका : देवीसिंह राजपूत (पूर्व सैनिक), पूर्व सरपंच केदार सिंह राजपूत, लीलाधर राजपूत, सुनील राजपूत, राजेश राजपूत (शिक्षक), निर्भय सिंह, शैतान सिंह, गुलाब चाैहान, गजेंद्र राजपूत। जिन युवाओं का चयन हुआ है। उसमें दर्शसिंह हरिनारायण सिंह (21), विशालसिंह मदन सिंह राजपूत (22), हिमांशुसिंह सुरेंद्रसिंह राजपूत (20), शुभमसिंह कमल सिंहराजपूत (20) । 


गांव के युवा इसलिए प्रेरित : गांव में सबसे पहले रमेशचंद्र राजपूत 1970 में सेना में गए। इसके बाद उनके भाई देवी सिंह राजूपत ने 1971 में फाैज ज्वाइन की। देवीसिंह के मुताबिक 1983 में वे बच्चे का एडमिशन कराने आए थे तब गांव में एक रात डाका डल गया। देवीसिंह ने डाकुओं को खदेड़ा और ग्रामीणाें काे बचाया। तभी से गांव का हर बच्चा देश की सुरक्षा के लिए जुनून रखने लगा।


हम जरूरतमंद बच्चे की मदद करते हैं 


बच्चाें में पूर्व सैनिकाें की प्रेरणा से सेना में जाने की ललक है। परिवार और गांववाले भी उन्हें प्रेरित करते हैं। राजपूत समाज के सक्षम लाेग भी जरूरतमंद बच्चे की मदद करते हैं।


नरेश सिंह राजपूत, अध्यक्ष क्षेत्रीय राजपूत समाज


Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image