दिल्ली के बाद मप्र में वकील और पुलिस आपस में भिड़े,दोनों पर मामला दर्ज

दिल्ली के बाद मप्र में वकील और पुलिस आपस में भिड़े,दोनों पर मामला दर्ज



 





जबलपुर / दिल्ली के बाद मध्यप्रदेश के जबलपुर में वकील व पुलिस आपस में भिड़ गए बाद में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने हंगामा बढ़ते देख वकीलों को समझाकर मामले को शांत कराया। दरअसल मदनमहल थाना क्षेत्र में रविवार की दोपहर थाने के सामने अधिवक्ता से वाहन चेकिंग में कागजात पूछने की बात पर महिला आरक्षक और आरक्षक का विवाद हो गया। विवाद के दौरान महिला आरक्षक और आरक्षक ने अधिवक्ता से मारपीट की और घसीटते हुए थाने के अंदर ले गए। जहां टीआई को पूरी बात बताई, तो टीआई ने भी अभद्रता करने पर उसके साथ मारपीट की। मामले की सूचना मिलते ही अन्य अधिवक्ता मौके पर पहुंच गए और मारपीट करने वाली महिला आरक्षक, आरक्षक और टीआई पर मामला दर्ज कर सस्पेंड करने की मांग करते हुए प्रदर्शन शुरू कर दिया। वहीं सूचना पर एएसपी शहर संजीव उईके और सीएसपी कोतवाली दीपक मिश्रा थाने पहुंचे और सभी अधिवक्ताओं को उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत कराया। मामला बढ़ते देख वरिष्ठ अधिकारियों ने तत्काल प्रभाव से पुलिसकर्मी मीनाक्षी शुक्ला एवं हेमराज को निलंबित कर दिया साथ ही थाना प्रभारी संदीप आयची को नोटिस जारी किया है। वकील की शिकायत के बाद थाना प्रभारी एवं दोनों पुलिसकर्मियों के खिलाफ उन्हीं के थाने में एफआईआर दर्ज की गई। बाद में महिला आरक्षक मीनाक्षी शुक्ला की शिकायत पर देर रात वकील पर भी एफआईआर दर्ज की गई।


क्या है पूरा मामला


प्राप्त जानकारी के अनुसार,कालीमठ निवासी अधिवक्ता संदीप माली ने आरोप लगाया कि वह सूरत गया हुआ था, जहां से वह बड़ी स्टेशन पहुंचा और पड़ोस में रहने वाले राहुल को घर ले जाने के लिए बुलाया। राहुल के साथ वह घर लौट रहा था, जैसे ही वह मदनमहल थाने के सामने पहुंचा, तभी महिला आरक्षक मीनाक्षी शुक्ला और आरक्षक हेमराज ने रोक लिया। दोनों ने हेलमेट व कागजात के बारे में पूछताछ शुरू की। उसने पूरी जानकारी दी और बताया कि वह स्टेशन से घर लौट रहा है। राहुल उसकी मोपेड लेकर आ गया है लेकिन दोनों ने उसकी एक नहीं सुनी और मीनाक्षी ने अभद्रता करना शुरू कर दी। जब विरोध किया तो आरक्षक मीनाक्षी और आरक्षक ने मारपीट करते हुए घसीटते हुए थाने के अंदर ले गए। राहुल दहशत में भागकर उसके परिचितों को फोन लगाने चला गया। इसके बाद दोनों ने थाने में ले जाकर मारपीट की और तभी मदनमहल टीआई संदीप अयाची भी आ गए, जिसके बाद टीआई ने भी उसके साथ मारपीट की।


महिला आरक्षक ने शिकायत में लगाये ये आरोप


आरक्षक मीनाक्षी ने शिकायत में आरोप लगाया कि रविवार को वह आरक्षक हेमराज और अन्य के साथ थाने के सामने पॉइंट पर वाहन चेकिंग कर रही थी। तभी मोपेड सवार दो युवक आए, जिन्हें रोका, तो मोपेड की रफ्तार तेज होने के कारण उसके पैर में मोपेड का आगे का चका चढ़ गया। आरक्षक हेमराज अधिवक्ता संदीप को पहचानता था, जिसने उससे कहा कि मैडम के पैर में वाहन चढ़ा दिया। इस बात से नाराज होकर अधिवक्ता संदीप ने अभद्रता करना शुरू कर दिया। मीनाक्षी ने रिपोर्ट में बताया कि जब उसने अधिवक्ता का विरोध किया तो उसने हाथ पकड़ लिया और धक्का देने लगा। विवाद बढ़ा तो अधिवक्ता थाने के अंदर भागा और टीआई कक्ष में घुस गया। टीआई ने समझाया तो उनके साथ अभद्रता की और अधिवक्ता होने की बात कहते हुए अपने साथियों को बुलाने की धमकी दी। वहीं मदनमहल टीआई संदीप अयाची ने बताया कि संदीप अधिवक्ता है, जब यह बात उसने बताई, तो उसे शांत कराकर पूरे मामले को जानने की कोशिश की थी। वहीं उसे समझाइश दी उनके साथ मैंने कोई मारपीट नहीं की।


इनका कहना


मदनमहल पुलिस ने यह दूसरी बार अधिवक्ताओं के साथ बर्बरता की है। इसके पहले भी एक बार हो चुका है। अधिवक्ता ने जब जुर्माना देने के लिए कहा, तो उसके साथ मारपीट की। दोबारा यदि ऐसा होता है, तो जमकर विरोध किया जाएगा।


सुधीर नायक, अध्यक्ष जिला बार एसोसिएशन।


अधिवक्ता की शिकायत पर दोनों आरक्षकों और टीआई पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही हैं। वहीं महिला आरक्षक की शिकायत पर भी मामला दर्ज किया गया है। मामले की जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।


संजीव उईके, एएसपी शहर।





Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image