बेटा दिल्ली में दूसरी बार बना विधायक, पिता आज भी भोपाल में बना रहे गाड़ियों के पंचर


बेटा दिल्ली में दूसरी बार बना विधायक, पिता आज भी भोपाल में बना रहे गाड़ियों के पंचर







भोपाल / राजनीतिक दलों के नेताओं के जहां एक बार विधायक बनते ही उनका पूरा कुनबा करोड़पति बन जाता है, वहीं आम आदमी पार्टी से दूसरी बार विधायक का चुनाव जीतने वाले प्रवीण कुमार के पिता पीएन देशमुख अब भी भोपाल में पंचर बनाते हैं।

बेटे की पांच साल की विधायकी के बावजूद देशमुख के परिवार पर कोई असर नहीं पड़ा, पूरे पांच साल वे पहले की तरह पंचर बनाते रहे। मतदान के दिन भी पिता भोपाल के पुल बोगदा में अपनी पुरानी छोटी सी दुकान में पंचर बना रहे थे। मतदान के बाद बेटे के पास दिल्ली पहुंचे।

यूं बदली प्रवीण की किस्मत:-

दरअसल, प्रवीण भोपाल में ही पढ़े-बढ़े। फिर दिल्ली में नौकरी करने गए। वहां पर छोटी नौकरी की, लेकिन फिर अन्ना आंदोलन में शामिल हो गए। इसके बाद जब आम आदमी पार्टी दिल्ली में चुनाव लड़ी, तो उन्होंने जंगपुरा सीट से चुनाव लड़ा।

आम आदमी वाली पार्टी लाइन को सही साबित करते हुए प्रवीण को तब अरविंद केजरीवाल ने मौका दिया था। इसीलिए पंचर बनाने वाले देशमुख का बेटा प्रवीण दिल्ली विधानसभा में पहुंचा। खासियत यह रही कि विधायक बनने के बावजूद प्रवीण ने पार्टी-लाइन नहीं छोड़ी।

पांच साल विधायक रहने के बावजूद न तो प्रवीण के रहन-सहन में खास अंतर आया और न उनके परिवार में। उनका परिवार पहले की तरह पंचर की दुकान से ही गुजर-बसर करता रहा। पिता पहले की तरह पंचर बनाकर रोजी-रोटी कमाते रहे।

पिता ने भी दी मिसाल, बोले- मंत्री बने तो भी पंचर बनाना मेरा काम:-

प्रवीण के पिता पीएन देशमुख ने पत्रिका से विशेष बातचीत में कहा कि मेरे बेटा अपना काम कर रहा है और मैं अपना काम कर रहा हूं। वह मंत्री भी बन जाता है, तो उससे मेरे काम पर फर्क नहीं पड़ेगा। पंचर बनाना मेरा काम है और उससे गुजर-बसर करता रहूंगा। आम आदमी पार्टी का यही सिद्धांत है और इसीलिए उसे दिल्ली में दोबारा सफलता मिली है।

प्रवीण ने कहा- जनता का असली दर्द जानता हूं:-

मेरे पिता से ही मुझे प्रेरणा मिली है। उन्होंने हमेशा सादगी और सम्मान से जीवन जिया है। पिछले पांच साल में जंगपुरा क्षेत्र के लिए काफी काम किया। वहां की तस्वीर बदली है। मैं जिस परिवार से आया हूं, वहां मैंने आर्थिक संकट का दर्द देखा है। इसलिए जनता के इस दर्द को समझता हूं। इसलिए काम पर भरोसा करता हूं, यही कारण है कि धर्म के नाम पर नहीं, जनता ने काम के नाम पर वोट दिया है।




Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image