इंदिरा गांधी करीम लाला से पठान नेता के तौर पर मिलने जाती थीं

; फडणवीस बोले- अपराधियों से साठगांठ पर कांग्रेस जवाब दे



मुंबई / शिवसेना सांसद संजय राउत ने गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और अंडरवर्ल्ड सरगना करीम लाला के बीच मुलाकात को लेकर दिए बयान पर सफाई दी। उन्होंने कहा- इंदिरा गांधी अंडरवर्ल्ड सरगना करीम लाला से एक पठान नेता के तौर पर मिलती थीं। मैं पूर्व प्रधानमंत्री जवारलाल नेहरू और इंदिरा गांधी का सम्मान करता हूं। दरअसल, हाल ही में एक मराठी अखबार को दिए इंटरव्यू में सांसद राउत ने कहा था कि इंदिरा गांधी, करीम लाला से और मैं दाउद इब्राहिम से मुलाकात कर चुका हूं।


पूर्व मुख्यमंत्री ने कांग्रेस नेताओं से जवाब मांगा


पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राउत के बयान पर कांग्रेस नेताओं से जवाब देने की मांग की है। उन्होंने कहा, ‘‘क्या कांग्रेस उस समय अंडरवर्ल्ड के भरोसे चुनाव जीतती थी, क्या कांग्रेस को अंडरवर्ल्ड से फाइनेंस मिलता था। संजय राउत ने खुलासा किया है कि उस समय 1960 से 1980 तक मुंबई के कमिश्नर की नियुक्ति अंडरवर्ल्ड करता था क्या यह सच है?’’


करीम लाला पठानों के नेता थे- राउत


इसके बाद राउत ने कहा, ‘‘करीम लाला से सभी राष्ट्रीय नेता आकर मिलते थे। वे अफगानिस्तान से आए पठानों के नेता थे। उनकी समस्या जानने के लिए नेता उनसे मिलते थे। इंदिरा गांधी जी भी एक पठान नेता के तौर पर उनसे मिलती थीं। करीम लाला के दफ्तर में कई नेताओं की फोटो लगी थी। करीम लाला, अब्दुल गफार खान के साथ भी काम करते थे।


कांग्रेस नेताओं ने सांसद राउत को घेरा


मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा ने सांसद राउत के बयान की आलोचना की। उन्होंने कहा- इंदिरा गांधी सच्ची देशभक्त थीं। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा, ‘‘बेहतर होगा कि शिवसेना के मि. शायर दूसरों की हल्की-फुल्की शायरी सुनाकर महाराष्ट्र का मनोरंजन करते रहें। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी के खिलाफ दुष्प्रचार करेंगे तो उन्हें पछताना पड़ेगा। उन्होंने इंदिरा जी के बारे में जो बयान दिया है वो वापस ले लें।’’


मैं मौत और जेल से कभी नहीं डरा: संजय राउत


संजय राउत ने इंटरव्यू में कहा था, ‘‘आज अंडरवर्ल्ड में चिंदीगिरी होती है। हमने अंडरवर्ल्ड का वो समय देखा है, जब हाजी मस्तान मंत्रालय पहुंचता था तो लोग उसके स्वागत में बाहर आकर खड़े हो जाते थे। देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी भी मुंबई के पहले करीम लाला से पायधुनी इलाके में मिलने जाती थीं।’’


‘‘अगर इंसान में हिम्मत हो तो सामने भले ही प्रधानमंत्री हो या गृहमंत्री, उसे कुछ भी फर्क नहीं पड़ता। मैं मेरी अब तक की जिंदगी में मौत और जेल से कभी भी नहीं डरा हूं। कुछ लोग तो मुझे गुंडा कहते हैं लेकिन मुझे बुरा नहीं लगता क्योंकि यह मेरे काम करने का तरीका है।’’


‘‘मुंबई में एक वक्त ऐसा था कि शहर में अंडरवर्ल्ड चलता था। अब उसका अस्तित्व ही नहीं रहा। पहले मुख्यमंत्री कौन होगा, सरकार किस की आएगी यह अंडरवर्ल्ड तय करता था। ऐसे वक्त मैंने अंडरवर्ल्ड के कई लोगों को देखा है। मैंने दाऊद से लेकर सब की तस्वीरें निकाली है। मौजूदा समय में दाऊद को देखे हुए, उस से बात किए हुए बहुत कम लोग हैं। लेकिन, मैंने दाऊद को देखा है और उससे बात भी की है। इतना ही नहीं मैंने उसे एक बार फटकारा भी था।’’


कौन था करीम लाला?


करीम लाला का असली नाम अब्दुल करीम शेर खान था। उसका जन्म 1911 में अफगानिस्तान के कुनार प्रांत में हुआ था। उसे पश्तून समुदाय का आखिरी राजा भी कहा जाता है। लाला 21 साल की उम्र में मुंबई आया। यहां उसने हीरे-जवाहरात की तस्करी का काम शुरू किया। 1940 तक उसने इस काम में पकड़ बना ली थी। मुंबई पर करीम लाला ने करीब 30 साल तक एकतरफा राज किया। अंडरवर्ल्ड में 1981 से 1985 के बीच करीम लाला गैंग और दाऊद के बीच जमकर गैंगवार होती रही। इसके बाद दाऊद ने करीम लाला गैंग का सफाया किया और मुंबई पर अपना कब्जा जमाया। करीम लाला अकेला पड़ गया और 90 साल की उम्र में 19 फरवरी 2002 को मुंबई में ही करीम लाला की मौत हो गई थी। करीम लाला को पठानों का गॉडफादर भी कहा जाता है।


करीम लाला की हरींद्रनाथ चट्टोपाध्याय के साथ फोटो चर्चा में


करीम लाला की हरींद्रनाथ चट्टोपाध्याय के साथ फोटो काफी चर्चा में रही। हरींद्रनाथ संगीतकार, अभिनेता और कवि थे। वे पहली लोकसभा (1952-57) के सदस्य भी रहे थे। 1898 में तत्कालीन हैदराबाद रियासत (अब तेलंगाना) में पैदा हुए हरींद्रनाथ सरोजिनी नायडू के छोटे भाई थे। उन्होंने ‘साहब, बीवी और गुलाम’, ‘तीन देवियां’, ‘आशीर्वाद’ और ‘बावर्ची’ समेत 24 फिल्मों में काम किया। 1973 में उन्हें पद्म भूषण सम्मान से नवाजा गया। 1990 में हरींद्रनाथ का निधन हो गया।  



Popular posts
प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से बचने समझना होगा वेस्ट मैनेजमेंट को
शादीशुदा BF संग भागी प्रेमिका, प्रेमी की पत्नी नही मानी तो प्रेमी पर दर्ज कराया RAPE का मामला
Image
कोतवाली पुलिस ने किए अंधे कत्ल के शेष दो आरोपी गिरफ्तार। 
Image
ग्वालियर। ग्वालियर में तीन मंजिला एक मकान में भीषण आग लगने से सात लोगों की जिंदा जलकर दर्दनाक मौत हो गई। जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से झुलसे लोगों का इलाज चल रहा है। फायर बिग्रेड आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहा है। घटनास्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर सहित प्रशासन के आला अधिकारी और राजनेता भी पहुंच गए। घटना इंदरगंज थाने से महज 100 मीट की दूरी पर हुई। आग कैसे लगी इसकी जानकारी नहीं मिली है।  जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के इंदरगंज चैराहे पर रोशनी घर मोड़ पर तीन मंजिला मकान में गोयल परिवार रहता है। हरिमोहन, जगमोहन, लल्ला तीनों भाई की फैमिली रहती है जिसमें कुल 16 लोग शामिल हैं। इस मकान में एक पेंट की दुकान भी है जिसमें आधी रात को भीषण आग लग गई। दुकान की ऊपरी मंजिल में बने मकान में परिवार आग की लपटों में फंस गया।  देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। मामले की जानकरी मिलते ही फायर ब्रिगेड अमला मौके पर पहुंच गया और आग में फंसे परिवार को बचाने लगा। लेकिन तब तक सात लोगों की जिंदा जलकर मौत हो चुकी थी। एडिशनल एसपी ने सात लोगों की मृत्यु की पुष्टि की है। सुबह मौके पर सांसद विवेक शेजवलकर, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, चेम्बर अध्यक्ष विजय आदि भी पहुंचे। इस भीषण अग्निकांड की घटना में मृत लोगों के नाम इस प्रकार हैं - 1. आराध्या पुत्री सुमित गोयल उम्र 4 साल 2. आर्यन पुत्र साकेत गोयल उम्र 10 साल 3. शुभी पुत्री श्याम गोयल उम्र 13 साल 4. आरती पत्नी श्याम गोयल उम्र 37 साल 5. शकुंतला पत्नी जय किशन गोयल उम्र 60 साल 6. प्रियंका पत्नी साकेत गोयल उम्र 33 साल 7. मधु पत्नी हरिओम गोयल उम्र 55 साल 
Image
उत्कृष्ट विद्यालय मुरार में नन्हे नन्हे हाथों ने उकेरी रंगोलियां
Image